संत टैरैसा के बच्चे वन देवी मे पहुंचे पुजा अर्चना के साथ जानी पुरातन हिन्दू संस्कृति को।

मंदिर हमारी संस्कृति और परंपरा का एक बड़ा हिस्सा हैं। जीवन में हर त्योहार, अवसर या बड़ी से बड़ी उपलब्धी पहले मंदिर में जाकर मनाया जाता है! बुजुर्गों के अनुसार, मंदिरों का दौरा करने का अर्थ सर्वशक्तिमान से आशीर्वाद प्राप्त करना, हमारे दिमाग को शांत करना और एक नया दृष्टिकोण प्राप्त करना है।
साप्ताहिक जूनियर स्कूल गतिविधि के एक भाग के रूप में 12 अप्रैल 2019 को हमारी nursery ,lkg तथा Ukg ने कंचनपुर, बिहटा में वनदेवी मंदिर का दौरा किया। छात्रों के साथ उनके शिक्षक और सहायक कर्मचारी भी थे। वे मंदिर अपने स्कूल वैन के द्वारा गये तथा अपना पूरा दिन मंदिर के शांत और निर्मल वातावरण में व्यतीत किया। वहाँ स्वादिष्ट प्रसाद भी परोसा गया जिसे युवा भक्तों ने अत्यधिक पसंद किया। इसके बाद, छात्रों को उस क्षेत्र में ले जाया गया जहाँ मूर्तियों की पूजा की जाती है।यह यात्रा कक्षा से परे सीखने का एक उपयुक्त उदाहरण था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *