Posted on Leave a comment

औरंगाबाद के मुकेश मौआर ने डेयरी फार्मिंग में कायम की मिसाल

औरंगाबाद के रहनीहार हैं मुकेश मौआर जी । डेयरी फार्मिंग करते हैं। वैसे डेयरी फार्मिंग भी बड़ा कमाल का सेक्टर हैं ।

प्रोपर ट्रेन्ड , मैनेजमेंट और मार्केटिंग के बारीकियों को समझने वाला मुकेश मौआर टाईप बंदा तो आसमां को छुता हैं । वही मौआर जी जैसों का मोटिवेशनल स्टोरी सुन फटाक से डेयरी शुरू करने वालो का दुर्गति भी जगजाहिर है। बड़ा समर्पण का चीज है भाई डेयरी फार्मिंग। और महुआर जी समर्पित हैं भी । दिन रात एक किए रहते हैं । एक बात और जान लीजिए ईन्होने बीकॉम की पढ़ाई की हुई है। 13 वर्ष तक शिपिंग कंपनी में जॉब भी किया। उसके बाद गांव की मिट्टी ने ईनपर नजर गड़ा दी। गांव आए ।डेयरी फार्मिंग शुरू की ।लोगों के मजाक के पात्र बने। ट्रेनिंग नहीं लिया था सो नुकसान हुआ ।आज सबको बताते चलते हैं कि बिना ट्रेनिंग डेयरी फार्मिंग ना बाबा ना। अब मुकेश जी की गिनती औरंगाबाद के सबसे सफल डेरी फार्मरों में की जाती है। हो भी क्यों ना । 40 🐄 हैं । रोजाना 300 लीटर दूध उत्पादन होता हैं। कुछेक डेढ़ दो सौ कस्टमर है। अच्छा कमाते हैं और गर्व से बताते हैं कि डेयरी फार्मिंग से बेहतर व्यवसाय इस धरती पर कुछ नहीं है। मौआर जी ने आधुनिक शेड का निर्माण कराया हैं । गायों की संख्या 100 तक पहुंचाना चाहते हैं। उम्मीद है सफल होंगे और हमारी कामना भी है कि ईन जैसे सभी किसान सफल हो।

राष्ट्रीय किसान विकास संघ का किसान जन जागरण यात्रा जारी है। यह यात्रा तब तक जारी रहेगी जब तक लोगों को खेती में अवसर दिखने लगे । फायदा नजर आने लगे और लोग गांव की तरफ लौटने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *